Short Panchatantra stories in Hindi with moral

By | January 13, 2019

Short Panchatantra stories in Hindi with moral

Short Panchatantra stories in Hindi with moral – एक गांव में एक कुंवा था वह कुवा कोई मामूली कुवा नहीं था बल्कि इच्छापूर्ति कुवा था उस कुवें के पास जो कोई भी आता और सिक्के डालकर अपनी जो भी इच्छा मांगता उसकी इच्छा पूरी हो जाती है इसी तरह बहुत से लोग उस कुवें के पास जाते और अपनी इच्छा मांगते हैं और यह सब करते हुए कुवे को बहुत खुशी मिलती थी ऐसे ही दिन गुजरते गए और आखिर में अब कुवा बूढ़ा हो चुका था

वह अब किसी की भी इच्छा नहीं पूरा कर पा रहा था अब कोई भी व्यक्ति उसके पास आता और अपनी इच्छा को मांगता परंतु उसके इच्छा पूरा नहीं होता एक दिन उस कुए के पास एक छोटी सी बच्ची आई और कुवे से कहने लगे मेरे मम्मी पापा काम पर चले जाते हैं तो मैं बिल्कुल अकेली हो जाती हूं घर में मुझे एक छोटा सा कुत्ता दे दीजिए जिससे मैं दिन भर खेलूंगी और उस कुएं में एक सिक्का डाल दिया इस बात को सुनते हुए कुवें को बहुत ही दया आई और कुवा जोर जोर से रोने लगा कुंवा को रोता हुआ एक परी को उसकी आवाज सुनाई दी

परी जब गई तो देखा की इच्छा पूर्ति कुआं रो क्यों रहा है तभी परी ने कहा तुम तो सबकी इच्छा पूरा करते हो तो तुम क्यों रो रहे हो तभी कुवे ने जवाब दिया मैं अब बुढा हो गया हूं मैं अब किसी का भी इच्छा पूरा नहीं कर पा रहा हूं मैं क्या करूं मुझे बहुत बुरा लग रहा है तभी परी ने कहा तुम घबराओ मत मैं तुम्हारे लिए कुछ उपाय ढूंढती हूं यहां से कुछ दूर इच्छापूर्ति पर्वत है मैं वहां जाती हूं और तुम्हारी सिफारिश वहां के इच्छापूर्ति कछुआ से करती हूं वह शायद तुम्हारी मदद करेगा और यह कहकर परी वहां से चली गई

परी जब इच्छा पूर्ति पर्वत पर पहुंची तो वहां इच्छापूर्ति कछुए से मुलाकात हुई कछुआ बोला मेरे पर्वत पर भला एक परी यहां क्या कर रही है तभी परी ने इच्छापूर्ति पर्वत को सारी बात बताई इच्छापूर्ति पर्वत के कछुए ने कहा कोई बात नहीं घबराओ मत यहां जो इच्छा पूर्ति तलाब है वहां से थोड़ा सा जल लेकर जाओ और इच्छा पूर्ति कुएं में मिला देना वह फिर से जवान हो जाएगा और सब की इच्छा पूरी करने लगेगा परी ने थोड़ा सा जल इकट्ठा किया और उसे इच्छापूर्ति कुवे में ले जाकर डाल दिया जिससे कुआं फिर से जवान हो गया

कमेन्ट करके जरुर बताये की आपको यह “Short Panchatantra stories in Hindi with moral” कहानी आपको कैसे लगे अगर आप और Short Panchatantra stories in Hindi with moral कहानिया चाहते है तो भी हमें कमेन्ट करे और बताये हम जल्द से जल्द नयी कहानी पोस्ट करेंगे

बंदर का कलेजा

शेर का शिकार

हिंदी कहानियों का संग्रह  पढने के लिए यह क्लिक करे 

One thought on “Short Panchatantra stories in Hindi with moral

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *